Site icon Via Hindi

तत्पुरुष समास: परिभाषा, भेद और उदाहरण – Tatpurush Samas – Tatpurush Samas Kise Kahate Hain

Table of Contents

Tatpurush Samas

Tatpurush Samas in Hindi

Tatpurush Samas Ki Paribhasha – समास का वह रूप जिसमें द्वितीय पद या उत्तर पद प्रधान हो उसे तत्पुरुष समास कहते हैं। तत्पुरुष समास में प्रथम पद संज्ञा या विशेषण होता है और लिंग-वचन का निर्धारण अंतिम या द्वितीय पद के अनुसार होता है। तत्पुरुष समास में पूर्व पद एवं पर पद के मध्य कारक चिन्हों का लोप होता है और जब सामासिक पद का समास-विग्रह किया जाता है, तो कर्ता कारक एवं सम्बोधन कारक को छोड़कर शेष कारकों के कारक चिन्हों का प्रयोग किया जाता है।

जैसे: गंगा जल लाओ। इस वाक्य को सुनकर, सुनने वाला ‘गंगा’ को नहीं ला सकता, बल्कि केवल ‘जल’ लेकर आएगा। अतः गंगाजल सामासिक पद में प्रथम पद ‘गंगा’ प्रधान न होकर द्वितीय पद ‘जल’ प्रधान है, इसलिए यहाँ तत्पुरुष समास होगा।

तत्पुरुष समास के उदाहरण (Tatpurush Samas Ke Udaharan)

तत्पुरुष समास के भेद (Tatpurush Samas ke Bhed)

मूल व्याकरण, संस्कृत व्याकरण, के अनुसार तत्पुरुष समास के दो भेद होते हैं- व्याधिकरण समास और समानाधिकरण समास।

  1. व्याधिकरण तत्पुरुष समास
  2. समानाधिकरण तत्पुरुष समास

व्याधिकरण तत्पुरुष समास (Vyadhikaran Tatpurush Samas)

तत्पुरुष समास का वह रूप जिसमें समास-विग्रह करते समय पुर्व एवं पर पद में भिन्न-भिन्न विभक्तियों का प्रयोग किया जाता है उसे व्याधिकरण तत्पुरुष समास कहते हैं। मुल तत्पुरुष समास ही व्याधिकरण तत्पुरुष समास होता है।

व्याधिकरण तत्पुरुष समास के भेद (Vyadhikaran Tatpurush Samas Ke Bhed)

व्याधिकरण समास में अलग-अलग कारक चिन्हों का लोप होता है, इसी आधार पर व्याधिकरण समास के छः भेद होते हैं। व्याधिकरण समास के सभी छ: भेद कारकों के अनुसार तय किए गए हैं, जिनमें कर्ता कारक और सम्बोधन कारक को शामिल नहीं किया गया है।

  1. कर्म तत्पुरुष समास – Karam Tatpurush
  2. करण तत्पुरुष समास – Karan Tatpurush
  3. सम्प्रदान तत्पुरुष समास – Sampradan Tatpurush
  4. अपादान तत्पुरुष समास – Apadan Tatpurush
  5. सम्बंध तत्पुरुष समास – Sambandh Tatpurush
  6. अधिकरण तत्पुरुष समास – Adhikaran Tatpurush

कर्म तत्पुरुष समास (Karam Tatpurush Samas)

जिस तत्पुरुष समास में कर्म कारक के कारक चिन्ह (को) का लोप हुआ हो उसे कर्म तत्पुरुष समास कहते हैं.

कर्म तत्पुरुष समास के उदाहरण (Karam Tatpurush Samas Ke Udaharan)

करण तत्पुरुष समास (Karan Tatpurush Samas)

जिस तत्पुरुष समास में करण कारक के कारक चिन्ह (से, के, द्वारा) का लोप हुआ हो उसे करण तत्पुरुष समास कहते हैं.

करण तत्पुरुष समास के उदाहरण (Karan Tatpurush Ke Udaharan)

सम्प्रदान तत्पुरुष समास (Sampradan Tatpurush Samas)

जिस तत्पुरुष समास में सम्प्रदान कारक के कारक चिन्ह (के लिए) का लोप हुआ हो उसे सम्प्रदान तत्पुरुष समास कहते हैं.

सम्प्रदान तत्पुरुष समास के उदाहरण (Sampradan Tatpurush Samas Ke Udaharan)

अपादान तत्पुरुष समास (Apadan Tatpurush Samas)

जिस तत्पुरुष समास में अपादान कारक के कारक चिन्ह (से अलग होने के अर्थ में) का लोप हुआ हो उसे अपादान तत्पुरुष समास कहते हैं.

अपादान तत्पुरुष समास के उदाहरण (Apadan Tatpurush Samas Ke Udaharan)

सम्बंध तत्पुरुष समास (Sambandh Tatpurush)

जिस तत्पुरुष समास में सम्बंध कारक के कारक चिन्ह (का, के, की) का लोप हुआ हो उसे सम्बंध तत्पुरुष समास कहते हैं.

सम्बंध तत्पुरुष समास के उदाहरण (Sambandh Tatpurush Samas Ke Udahran)


अधिकरण तत्पुरुष समास (Adhikaran Tatpurush)

जिस तत्पुरुष समास में अधिकरण कारक के कारक चिन्ह (में, पर) का लोप हुआ हो उसे अधिकरण तत्पुरुष समास कहते हैं.

अधिकरण तत्पुरुष समास के उदाहरण (Adhikaran Tatpurush Samas Ke Udaharana)

समानाधिकरण तत्पुरुष समास (Samanadhikaran Tatpurush Samas)

तत्पुरुष समास का वह रूप जिसका समास-विग्रह करते समय पुर्व एवं पर पद में एक ही विभक्ति (कर्ता कारक) का प्रयोग किया जाता है उसे समानाधिकरण तत्पुरुष समास कहते हैं।

समानाधिकरण तत्पुरुष समास के भेद (Samanadhikaran Tatpurush Samas Ke Bhed)

समानाधिकरण तत्पुरुष समास के छः भेद होते हैं.

  1. लुप्तपद तत्पुरुष समास
  2. उपपद तत्पुरुष समास
  3. अलुक् तत्पुरुष समास
  4. नञ् तत्पुरुष समास
  5. कर्मधारय तत्पुरुष समास
  6. द्विगु तत्पुरुष समास

लुप्तपद तत्पुरुष समास (LuptPad Tatpurush Samas)

तत्पुरुष समास का वह रूप जिसमें पूर्व पद और द्वितीय पद के बीच से कारक चिन्ह के साथ-साथ अन्य पदों का भी लोप हो जाए तो उसे लुप्तपद तत्पुरुष समास कहते हैं। लुप्तपद तत्पुरुष समास को मध्यम पद लोपी तत्पुरुष समास भी कहते हैं।

लुप्तपद तत्पुरुष समास के उदाहरण (LuptPad Tatpurush Samas Ke Udaharana)

उपपद तत्पुरुष समास (Uppad Tatpurush Samas)

तत्पुरुष समास का वह रूप जिसमें द्वितीय पद भाषा में स्वतंत्र शब्द न होकर महज़ प्रत्यय के रूप में प्रयुक्त होता हो तो उसे उपपद तत्पुरुष समास कहते हैं।उपपद तत्पुरुष समास का विग्रह करते समय प्रत्यय का अर्थ काम में लिया जाता है।

उपपद तत्पुरुष समास के उदाहरण (Uppad Tatpurush Samas Ke Udahran)

अलुक् तत्पुरुष समास (Aluk Tatpurush Samas)

जिस तत्पुरुष समास में कारक चिन्ह का लोप नहीं होता उसे अलुक् तत्पुरुष समास कहते हैं। अलुक् तत्पुरुष समास में कारक चिन्ह किसी न किसी रूप में विद्यमान रहता है। अलुक् शब्द अ + लुक् के योग से बना है, जिसका शाब्दिक अर्थ ‘न छिपना’ होता है।

दरअसल, तत्पुरुष समास की प्रक्रिया में किसी न किसी कारक चिन्ह का लोप होता है, लेकिन जब समास प्रक्रिया में कारक विभक्ति का लोप नहीं हो तो उसे अलुक् तत्पुरुष समास कहते हैं।

अलुक् तत्पुरुष समास के उदाहरण (Aluk Tatpurush Samas Ke Udaharan)

नञ् तत्पुरुष समास (Nay Tatpurush Samas)

जब किसी सामासिक पद में प्रथम पद के रूप में अ / अन् / अन / न / ना उपसर्ग जुड़े हुए हों और ये उपसर्ग पर पद को विलोम शब्द में भी परिवर्तित कर रहे हों तो वहाँ नञ् तत्पुरुष समास होता है. नञ् तत्पुरुष समास के सामासिक पद का विग्रह करते समय उपसर्ग को हटाकर ‘न’ जोड़ दिया जाता है.

नञ् तत्पुरुष समास के उदाहरण (Nay Tatpurush Samas Ke Udaharan)

Note: तत्पुरुष समास के दो अन्य भेद- कर्मधारय समास एवं द्विगु समास के बारे में जानने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें-

  1. कर्मधारय समास परिभाषा एवं उदाहरण
  2. द्विगु समास परिभाषा एवं उदाहरण

Samas Quiz – समास क्विज़

संज्ञा की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  2. जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  3. व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. प्रश्नवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  5. निश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  2. द्विगु समास की परिभाषा और उदाहरण
  3. कर्मधारय समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  4. बहुव्रीहि समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. द्वन्द्व समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  6. तत्पुरुष समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

वाक्य की परिभाषा, भेद एवं उदहारण

  1. मिश्र वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. संयुक्त वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. साधारण वाक्य की परिभाषा एवं उदहारण

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  2. संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  3. गुणवाचक विशेषण की परिभाषा और उदाहरण
  4. सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  5. विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. प्रविशेषण की परिभाषा एवं उदाहरण

क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. सामान्य क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  2. पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. नामधातु क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  4. संयुक्त क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  6. प्रेरणार्थक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  7. सकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
Exit mobile version