पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण

Purv Kalik Kriya

Purv Kalik Kriya

पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) का मतलब पहले संपन्न हुई क्रिया होता है। आपने बहुत से ऐसे वाक्य देखे होंगे जिनमें दो क्रियाएँ एक ही वाक्य में आती हैं, जिनमें से एक क्रिया पहले संपन्न होती है और दूसरी क्रिया पहली क्रिया के बाद घटित होती है। हिंदी व्याकरण में इस पहले घटित होने वाली क्रिया को पूर्वकालिक क्रिया कहलाती है।

इस लेख में हम इसी पूर्वकालिक क्रिया के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। अतः लेख को धैर्यपूर्वक पढ़ें।

Purv Kalik Kriya Kise Kahate Hain

पूर्वकालिक क्रिया किसे कहते हैं | Purv Kalik Kriya Kise Kahate Hain

जब किसी वाक्य में दो क्रियाएं एक साथ प्रयुक्त हुई हों और उनमें से एक क्रिया दूसरी क्रिया से पहले संपन्न हुई हो तो पहले संपन्न होने वाली क्रिया को पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) कहते हैं। पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) पर लिंग, वचन, पुरुष और काल आदि का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। पूर्वकालिक क्रिया का अर्थ पहले हुआ होता है।

मूल धातु शब्द में ‘कर’ जोड़कर सामान्य क्रिया को पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) में बदला जाता है।

जैसे:-

  • मोहित खेलकर पढ़ने बैठेगा।

उपरोक्त वाक्य में खेलने की क्रिया और पढ़ने की क्रिया एक साथ प्रयुक्त हुई है, जिनमें से खेलने की क्रिया पढ़ने की क्रिया से पहले हुई है।

पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा से हम जानते हैं कि “जब किसी वाक्य में दो क्रियाएं एक साथ प्रयुक्त हुई हों और उनमें से एक क्रिया दूसरी क्रिया से पहले संपन्न हुई हो तो पहले संपन्न होने वाली क्रिया को पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) कहते हैं।”

अतः उपरोक्त वाक्य में ‘खेलकर’ क्रिया पूर्वकालिक क्रिया है, जिसे मूल धातु ‘खेल’ में ‘कर’ जोड़कर बनाया गया है।

  • राजू पढ़कर खेलने गया।

आप देख सकते हैं कि उपरोक्त वाक्य में दो क्रियाएं एक साथ प्रयुक्त हुई हैं, जिसमें एक क्रिया दूसरी क्रिया से पहले खत्म हुई है। वाक्य के अनुसार राजू द्वारा पहले पढ़ने का कार्य पूर्ण किया गया है और उसके बाद वह खेलने गया।

अतः इस वाक्य में पढ़कर पूर्वकालिक क्रिया होगी और यह वाक्य पूर्वकालिक क्रिया का उदाहरण होगा।

इसके अलावा वाक्य में आप देख सकते हैं कि ‘पढ़’ मूल धातु में ‘कर’ जोड़कर पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) बनाई गई है।

  • रमेश चाय बनाकर नमकीन लेने गया।

उपरोक्त उदाहरण में आप देख सकते हैं कि दो क्रियाएँ एक साथ प्रयुक्त हुई हैं, जिसमें एक क्रिया पहले और दूसरी क्रिया बाद में घटित हुई है। अतः उपरोक्त उदाहरण पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) का उदाहरण होगा।

  • घनश्याम फसल काटकर सोने जाएगा।

इस वाक्य में भी और दो क्रियाएँ एक साथ प्रयुक्त हुई हैं, जिसमें से एक क्रिया दूसरी क्रिया से पहले घटित हुई है।

अतः उपरोक्त उदाहरण पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) का उदाहरण होगा।

पूर्वकालिक क्रिया के उदाहरण | Purv Kalik Kriya Ke Udaharan

  • राधा खाना बनाकर नहाने गई।
  • शंकर खाना खाकर सो गया।
  • सीता नहाकर मंदिर जाएगी।
  • विक्रम फुटबॉल खेलकर दौड़ने गया
  • मोहन शराब पीकर खाना खाने गया।

उपरोक्त सभी उदाहरणों में आप देख सकते हैं कि प्रत्येक वाक्य में दो क्रियाएँ एक साथ प्रयुक्त हुई हैं। जिनमें से एक क्रिया दूसरी क्रिया से पहले घटित हुई है।

पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा से हम यह जानते हैं कि “यदि किसी वाक्य में दो क्रियाएँ एक साथ प्रयुक्त हुई हों और उनमें से एक क्रिया दूसरी क्रिया से पहले संपन्न हुई हो तो पहले संपन्न होने वाली क्रिया को पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) कहते हैं।”

अतः उपरोक्त सभी उदाहरण पूर्वकालिक क्रिया के उदाहरण होंगे।

तात्कालिक क्रिया किसे कहते हैं

पूर्वकालिक क्रिया का एक रुप तात्कालिक क्रिया भी होता है, जिसमें किसी एक क्रिया के समाप्त होने पर तत्काल दूसरी क्रिया आरंभ होती है। मूल धातु शब्द के साथ ‘ते’ जोड़कर एक तात्कालिक क्रियापद बनता है।

जैसे:-

  • पुलिस के आते ही चोर भाग गया।

उपरोक्त उदाहरण में आप देख सकते हैं कि एक क्रिया के समाप्त होते ही दूसरी क्रिया तत्काल प्रभाव से प्रारंभ हुई है। अतः उपरोक्त उदाहरण में ‘आते ही’ तात्कालिक किया है।

तात्कालिक क्रिया के उदाहरण

  • मेरे नहाते ही सोनू आ गया।
  • राधा के जाते ही सीता चली गई।
  • वह खाना खाते ही भाग गया।
  • श्याम के उठते ही राम बैठ गया।
  • कमलेश के आते ही राधा चली गई।

उपरोक्त सभी उदाहरणों में आप देख सकते हैं कि प्रत्येक वाक्य में दो क्रियाएँ एक साथ प्रयुक्त हुई है। प्रत्येक वाक्य में एक क्रिया के समाप्त होते ही दूसरी क्रिया तत्काल प्रभाव से घटित हो रही है। अतः उपरोक्त सभी उदाहरण तात्कालिक क्रिया के उदाहरण होंगे।

Purv Kalik Kriya

FAQs

पूर्वकालिक क्रिया की क्या पहचान है?

पूर्वकालिक क्रिया की पहचान यह होती है की पूर्वकालिक क्रिया पद के अंत में कर या करके जुड़ा हुआ रहता है.

पूर्वकालिक क्रिया क्या है?

जब किसी वाक्य में दो क्रियाएं एक साथ प्रयुक्त हुई हों और उनमें से एक क्रिया दूसरी क्रिया से पहले संपन्न हुई हो तो पहले संपन्न होने वाली क्रिया को पूर्वकालिक क्रिया (Purv Kalik Kriya) कहते हैं।

Other Posts Related to Hindi Vyakran

  1. संज्ञा
  2. सर्वनाम
  3. प्रत्यय
  4. उपसर्ग
  5. वाक्य
  6. शब्द-विचार
  7. कारक
  8. समास
  9. विशेषण
  10. विलोम शब्द
  11. पर्यायवाची शब्द
  12. तत्सम और तद्भव शब्द
  13. संधि और संधि-विच्छेद
  14. सम्बन्धबोधक अव्यय
  15. अयोगवाह
  16. हिंदी वर्णमाला
  17. वाक्यांश के लिए एक शब्द
  18. समुच्चयबोधक अव्यय
  19. विस्मयादिबोधक अव्यय
  20. जातिवाचक संज्ञा
  21. व्यक्ति वाचक संज्ञा
  22. प्रेरणार्थक क्रिया
  23. भाव वाचक संज्ञा
  24. सकर्मक क्रिया

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top