प्रेरणार्थक क्रिया (Causative Verb) – Prernarthak Kriya

प्रेरणार्थक क्रिया

Table of Contents

Prernarthak Kriya

Prernarthak Kriya
Prernarthak Kriya

प्रेरणार्थक क्रिया कौन सी होती है?

मूल धातु का वह विकृत रूप जिससे क्रिया के व्यापार में कर्ता (प्रेरित कर्ता) पर किसी (प्रेरक कर्ता) की प्रेरणा का बोध हो तो उसे प्रेरणार्थक क्रिया कहते हैं। प्रेरणार्थक क्रिया की रचना सकर्मक एवं अकर्मक दोनों प्रकार की क्रियाओं से हो सकती है, लेकिन प्रेरणार्थक क्रिया बन जाने के पश्चात वह सदैव सकर्मक ही होगी। प्रेरणार्थक क्रिया में दो कर्ता होते हैं जो निम्नलिखित हैं।

  • प्रेरक कर्ता – वह कर्ता जो क्रिया करने के लिए प्रेरणा देता है.
  • प्रेरित कर्ता – वह कर्ता जो क्रिया करने के लिए प्रेरणा देता है.

प्रेरणार्थक क्रिया के उदाहरण

  • वह सबसे चालान भरवाता है.
  • महेश बच्चों को रुलाता है.
  • गीता बच्चों को हिंदी पढ़ाती है.
  • सुरेश आज नौकर से गाड़ी धुलवाना।
  • आज तुम विजय से चाय बनवाना।

प्रेरणार्थक क्रिया के कितने प्रकार है?

प्रेरणार्थक क्रिया के दो प्रकार हैं- प्रत्यक्ष या प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया और अप्रत्यक्ष या द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया है.

  1. प्रत्यक्ष या प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया
  2. अप्रत्यक्ष या द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया

प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया क्या है?

क्रिया का वह रूप जिसमें कर्ता स्वयं भी कार्य में सम्मिलित होता हुआ कार्य करने की प्रेरणा देता है तो क्रिया के उस रूप को प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया कहते हैं। जैसे: मोहन सबको भजन सुनाता है. इस वाक्य में मोहन द्वारा भजन गाए जाने पर सुनने का कार्य किसी अन्य व्यक्ति या व्यक्तियों द्वारा किया गया है.

प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया के उदाहरण

  • वह सबको भजन सुनाता है.
  • पिता पुत्र से पत्र लिखवाता है.
  • माँ बच्चे को खाना खिलाती है.
  • राम श्याम से कपड़े धुलवाता है.
  • शीला मीना से चाय बनवाती है.
  • महेश बच्चों को रुलाता है.
  • गीता बच्चों को हिंदी पढ़ाती है.

द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया क्या है?

क्रिया का वह रूप जिसमें कर्ता स्वयं कार्य न करके दूसरों को कार्य करने की प्रेरणा देता है उसे द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया कहते हैं। जैसे: श्याम अध्यापक से बच्चों को पाठ पढ़वाता है. इस वाक्य में श्याम अध्यापक को प्रेरणा दे रहा है की वह बच्चों को पाठ पढ़ाए, इसलिए इस वाक्य में प्रेरणार्थक क्रिया का द्वितीय प्रेरणार्थक रूप होगा।

द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया के उदाहरण

  • वह महेश से बच्चोँ को हँसवाता है.
  • माँ आज खाने में दाल बनवाना।
  • वह अध्यापक से बच्चों को हिंदी सिखवाता है.
  • सुरेश आज नौकर से गाड़ी धुलवाना।
  • आज तुम विजय से चाय बनवाना।

प्रेरणार्थक क्रिया बनाने के नियम

  1. मूल धातु के अन्त में आना जोड़ने से प्रथम प्रेरणार्थक रूप एवं मूल धातु के अन्त में वाना जोड़ने से द्वितीय प्रेरणार्थक रूप बनता है।
मूल धातुप्रथम प्रेरणार्थक रूपद्वितीय प्रेरणार्थक रूप
उठउठानाउठवाना
गिरगिराना गिरवाना
कट काटना कटवाना
पढ़पढ़ाना पढ़वाना
सुनसुनाना सुनवाना
चलचलाना चलवाना
Prernarthak Kriya

  1. दो अक्षरों वाली मूल धातु में और को छोड़कर सभी स्वर मात्राओं के लघु रूप का दीर्घ रूप हो जाता है।
मूल धातु प्रथम प्रेरणार्थक रूप द्वितीय प्रेरणार्थक रूप
ओढ़णा उढ़ाणा उढ़वाणा
जागना जगाना जगवाना
जीतना जिताना जितवाना
डूबना डुबाना डुबवाना
बोलना बुलाना बुलवाना
Prernarthak Kriya

  1. एक अक्षर वाली घातु के अन्त में ला और लवा जोड़कर दीर्घ स्वर मात्रा को लघु मात्रा कर दिया जाता है।
मूल धातु प्रथम प्रेरणार्थक रूप द्वितीय प्रेरणार्थक रूप
खाना खिलानाखिलवाना
देनादिलानादिलवाना
पीनापिलानापिलवाना
सीनासिलानासिलवाना
सोनासुलानासुलवाना
Prernarthak Kriya

प्रेरणार्थक क्रिया के कितने रूप होते है उदाहरण के साथ लिखिए?

प्रेरणार्थक क्रिया के दो रूप होते हैं. पहले रूप को प्रथम प्रेरणार्थक एवं दूसरे रूप को द्वितीय प्रेरणार्थक रूप कहते हैं.

प्रेरणार्थक क्रिया कैसे पहचाने?

प्रेरणार्थक क्रिया को पहचानने के लिए वाक्य में प्रेरणा का भाव एवं प्रेरित कर्ता एवं प्रेरक कर्ता को देखना चाहिए। यदि वाक्य में किसी को प्रेरणा देने का भाव और प्रेरित कर्ता एवं प्रेरक कर्ता हों तो वहा प्रेरणार्थक क्रिया होगी।

लेटना शब्द का प्रथम प्रेरणार्थक रूप कौन सा है?

लेटना शब्द का प्रथम प्रेरणार्थक रूप लिटाना एवं द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया रूप लिटवाना होता है.

पीना की प्रेरणार्थक क्रिया क्या है?

पीना की प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया पिलाना एवं द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया पिलवाना होता है.

Other Posts Related to Hindi Vyakran

व्यंजन की परिभाषा, भेद और वर्गीकरण

  1. उत्क्षिप्त व्यंजन
  2. संघर्षहीन व्यंजन
  3. प्रकम्पित व्यंजन
  4. संघर्षी व्यंजन
  5. स्पर्श व्यंजन
  6. नासिक्य व्यंजन
  7. स्पर्श संघर्षी व्यंजन
  8. पार्श्विक व्यंजन

विराम चिह्न की परिभाषा, भेद और नियम

  1. योजक चिह्न
  2. अवतरण चिह्न
  3. अल्प विराम
  4. पूर्ण विराम चिह्न

संज्ञा की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  2. जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  3. व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. प्रश्नवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  5. निश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  2. द्विगु समास की परिभाषा और उदाहरण
  3. कर्मधारय समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  4. बहुव्रीहि समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. द्वन्द्व समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  6. तत्पुरुष समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

वाक्य की परिभाषा, भेद एवं उदहारण

  1. मिश्र वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. संयुक्त वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. साधारण वाक्य की परिभाषा एवं उदहारण

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  2. संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  3. गुणवाचक विशेषण की परिभाषा और उदाहरण
  4. सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  5. विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. प्रविशेषण की परिभाषा एवं उदाहरण

क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. सामान्य क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  2. पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. नामधातु क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  4. संयुक्त क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  6. प्रेरणार्थक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  7. सकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण