स्पर्श संघर्षी व्यंजन की परिभाषा और स्पर्श संघर्षी व्यंजन कितने होते हैं

Sparsh Sangharshi Vyanjan

Sparsh Sangharshi Vyanjan | स्पर्श संघर्षी व्यंजन

इस लेख में हम आपको हिंदी वर्णमाला के स्पर्श संघर्षी व्यंजनों (Sparsh Sangharshi Vyanjan) के बारे में बता रहे हैं। इस लेख में हम जानेंगे की स्पर्श संघर्षी व्यंजन किसे कहते हैं, स्पर्श संघर्षी व्यंजन कौन-कौन से होते हैं और स्पर्श संघर्षी व्यंजन (Sparsh Sangharshi Vyanjan) कितने होते हैं।

दरअसल, हिंदी व्यंजनों का जब उच्चारण के आधार पर वर्गीकरण किया जाता है तो हिंदी व्यंजनों के निम्नलिखित आठ भेद होते हैं।

  1. स्पर्श व्यंजन
  2. संघर्षी व्यंजन
  3. स्पर्श संघर्षी व्यंजन
  4. नासिक्य व्यंजन
  5. पार्श्विक व्यंजन
  6. प्रकम्पित व्यंजन
  7. उत्क्षिप्त व्यंजन
  8. संघर्षहीन व्यंजन

इन आठ भेदों में से एक भेद स्पर्श संघर्षी व्यंजन (Sparsh Sangharshi Vyanjan) होता है, जिसके बारे में इस लेख में हम आपको विस्तार से बताएंगे। अतः स्पर्श संघर्षी व्यंजनों (Sparsh Sangharshi Vyanjan) के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हासिल करने के लिए पूरे लेख को धैर्य पूर्वक पढ़ें।

Sparsh Sangharshi Vyanjan
Sparsh Sangharshi Vyanjan

स्पर्श संघर्षी व्यंजन किसे कहते हैं | Sparsh Sangharshi Vyanjan Kise Kahate Hain

जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय प्राणवायु मुख्य अवयवों को स्पर्श करती हुई संघर्ष के साथ बाहर निकलती हो उन्हें स्पर्श संघर्षी व्यंजन कहते हैं। स्पर्श संघर्षी व्यंजनों की संख्या चार होती है। हिंदी वर्णमाला में च-वर्ग के प्रथम चार व्यंजनों, अर्थात च, छ, ज, झ को स्पर्श संघर्षी व्यंजन कहते हैं।

स्पर्श संघर्षी व्यंजनों में स्पर्श व्यंजन एवं संघर्षी व्यंजन, दोनों के गुण पाए जाते हैं, अर्थात स्पर्श संघर्षी व्यंजनों का उच्चारण करते समय पहले मुख के विभिन्न अवयवों का परस्पर स्पर्श होता है और अंत में प्राणवायु संघर्ष के साथ मुख से बाहर निकलती है।

स्पर्श संघर्षी व्यंजनों का उच्चारण स्थान

स्पर्श संघर्षी व्यंजनों का उच्चारण स्थान तालु होता है, अर्थात च, छ, ज, झ व्यंजनों का उच्चारण स्थान तालु होता है। इन वर्णों का उच्चारण स्थान तालु होने की वजह से इनको तालव्य व्यंजन भी कहते हैं।

  1. स्पर्श संघर्षी क्या है?

    स्पर्श संघर्षी उच्चारण के आधार पर व्यंजनों का एक भेद होता है, जिसमें प्राण वायु फेफड़ों से उठकर जब मुख से बाहर निकलती है तो एक संघर्ष के साथ बाहर निकलती है और मुख के विभिन्न अवयवों के मध्य परस्पर स्पर्श होता है.

  2. स्पर्श संघर्षी व्यंजन कितने और कौन-कौन से होते हैं?

    स्पर्श संघर्षी व्यंजन चार होते हैं. हिंदी वर्णमाला में च-वर्ग के प्रथम चार व्यंजनों, अर्थात च, छ, ज, झ को स्पर्श संघर्षी व्यंजन कहते हैं।

संज्ञा की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  2. जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  3. व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. प्रश्नवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  5. निश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  2. द्विगु समास की परिभाषा और उदाहरण
  3. कर्मधारय समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  4. बहुव्रीहि समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. द्वन्द्व समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  6. तत्पुरुष समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

वाक्य की परिभाषा, भेद एवं उदहारण

  1. मिश्र वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. संयुक्त वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. साधारण वाक्य की परिभाषा एवं उदहारण

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  2. संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  3. गुणवाचक विशेषण की परिभाषा और उदाहरण
  4. सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  5. विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. प्रविशेषण की परिभाषा एवं उदाहरण

क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. सामान्य क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  2. पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. नामधातु क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  4. संयुक्त क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  6. प्रेरणार्थक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  7. सकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण