जातिवाचक संज्ञा: परिभाषा और उदाहरण – Jativachak Sangya in Hindi

Jativachak Sangya

Jativachak Sangya

इस लेख में हम जातिवाचक संज्ञा (JatiVachak Sangya) के बारे में विस्तारपूर्वक बता रहे हैं। इस लेख में हम आपको जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा (Definition of Jati Vachak Sangya in Hindi), जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण (Examples of Jati Vachak Sangya in Hindi), जातिवाचक संज्ञा के कुछ अन्य उदाहरण (More Examples of Jati Vachak Sangya in Hindi) के बारे में विस्तारपूर्वक बता रहे हैं। अतः जातिवाचक संज्ञा के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हासिल करने के लिए पुरे लेख को सावधानीपूर्वक पढ़ें।

संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के प्रकार (Sangya Ke Prakar) एवं उदाहरणों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हासिल करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-

Jativachak Sangya
Jativachak Sangya

जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा (Definition of Jati Vachak Sangya in Hindi)

Jativachak Sangya Kise Kahate Hain – किसी प्राणी, वस्तु या स्थान विशेष की जाति या सम्पूर्ण वर्ग का बोध करवाने वाले शब्द को जाति वाचक संज्ञा (JatiVachak Sangya) कहते हैं। जाति वाचक संज्ञा में किसी एक प्राणी, वस्तु या स्थान विशेष का बोध नहीं होता, बल्कि उस प्राणी, वस्तु या स्थान विशेष की सम्पूर्ण जाति या वर्ग का बोध होता है। जैसे: नदी, पहाड़, जानवर, शहर, गाँव इत्यादि। जैसे: मनुष्य, घर, पहाड़, गाय, बकरी इत्यादि।

रमेश, महेश, राधा या घनश्याम अलग-अलग व्यक्तियों के नाम हैं। अतः ये सभी व्यक्ति वाचक संज्ञा हैं, लेकिन सम्पूर्ण व्यक्तियों को मनुष्य कह कर सम्बोधित कर सकते हैं। मनुष्य कहने से सम्पूर्ण जाति का बोध होता है। अतः मनुष्य जातिवाचक संज्ञा है।

  • प्राणी – मनुष्य, मानव, लड़का, लड़की, सेना, बिल्ली, कुत्ता, घोड़ा, मोर, सभा इत्यादि।
  • वस्तु – पुस्तकें, मशीन आदि।
  • स्थान – पहाड़, नदी, शहर, गाँव, विद्यालय, भवन इत्यादि।

जातिवाचक संज्ञा के कुछ अन्य उदाहरण (More Examples of Jati Vachak Sangya in Hindi)

  • मोर – यहाँ मोर शब्द किसी एक मोर का बोध करवाने के बजाय सम्पूर्ण मोर जाति या वर्ग का बोध करवा रहा है. अतः मोर जातिवाचक संज्ञा शब्द है.
  • लड़का – यदि किसी लड़के को उसके नाम से सम्बोधित किया जाय तो वहाँ व्यक्तिवाचक संज्ञा होगी, लेकिन लड़का शब्द से किसी भी लड़के को सम्बोधित किया जा सकता है. अतः लड़का जातिवाचक संज्ञा है.
  • पहाड़ – यदि किसी पहाड़ विशेष को उसके नाम से सम्बोधित किया जाए तो यकीनन वह व्यक्तिवाचक संज्ञा शब्द होगा, किन्तु पहाड़ शब्द एक ऐसे वर्ग को दर्शाता है जिसमें विश्व के सभी पहाड़ शामिल होंगे, क्यूंकि उन सभी की जाति एक ही है.

जाति वाचक संज्ञा के उदाहरण – Jativachak Sangya Ke Udaharan

  • बिल्ली को जानवरों की मौसी कहा जाता है।
  • मानव सबसे अधिक बुद्धिमान प्राणी है।
  • गाय का दूध मीठा होता है।
  • पक्षियों को क़ैद करना पाप है।
  • कुत्ता पालतू जानवर है।
  • डाँक्टर भगवान का रूप होते हैं।
  • महिलाएं बहुत बात करती हैं।
  • पुस्तकें मनुष्य की सच्ची मित्र होती हैं।
  • नदियों का जल अब साफ़ नहीं रहा।
  • किसान देश का आधार हैं।

उपरोक्त सभी उदाहरणों में बिल्ली, मानव, गाय, पक्षी, कुत्ता, डॉक्टर, महिलाएं, पुस्तकें, नदियाँ, किसान, मनुष्य इत्यादि शब्द अपनी सम्पूर्ण जाति का बोध करवा रहे हैं। अतः ये सभी शब्द जातिवाचक संज्ञा शब्द हैं।

जातिवाचक संज्ञा और व्यक्तिवाचक संज्ञा में अंतर

क्र.व्यक्ति वाचक संज्ञाजाति वाचक संज्ञा
01.व्यक्ति वाचक संज्ञा सदैव एकवचन होती है।जाति वाचक संज्ञा सदैव बहुवचन होती है।
02.व्यक्तिवाचक संज्ञा सदैव अर्थवान नहीं होती।जातिवाचक संज्ञा सदैव अर्थवान होती है।
03.व्यक्ति वाचक संज्ञा में जिसके बारे में बात हो रही है वह एक ही होता है।जाति वाचक संज्ञा में किसी प्राणी, वस्तु या स्थान विशेष के वर्ग की बात होती है।
04.जैसे: मोहन, रामायण, गीता, राधा, लाल किला, जयपुर, मुम्बई, राजस्थान, गोवा, रमेश इत्यादि। जैसे: बिल्ली, मानव, गाय, पक्षी, कुत्ता, डॉक्टर, महिलाएं, पुस्तकें, नदियाँ, किसान, मनुष्य इत्यादि।

FAQs

जातिवाचक संज्ञा क्या है?

किसी प्राणी, वस्तु या स्थान विशेष की जाति या सम्पूर्ण वर्ग का बोध करवाने वाले शब्द को जाति वाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे: नदी, पहाड़, जानवर, शहर, गाँव इत्यादि। जैसे: मनुष्य, घर, पहाड़, गाय, बकरी इत्यादि।

जातिवाचक संज्ञा किसका बोध कराती है?

जातिवाचक संज्ञा किसी प्राणी, वस्तु या स्थान विशेष की जाति या सम्पूर्ण वर्ग का बोध कराती है.

व्यक्तिवाचक संज्ञा जाति वाचक कब बन जाती है?

जातिवाचक संज्ञा को एकवचन में लिखने पर व्यक्तिवाचक संज्ञा बन जाती है.

संज्ञा से सम्बंधित अन्य लेख:

Other Posts Related to Hindi Vyakran

व्यंजन की परिभाषा, भेद और वर्गीकरण

  1. उत्क्षिप्त व्यंजन
  2. संघर्षहीन व्यंजन
  3. प्रकम्पित व्यंजन
  4. संघर्षी व्यंजन
  5. स्पर्श व्यंजन
  6. नासिक्य व्यंजन
  7. स्पर्श संघर्षी व्यंजन
  8. पार्श्विक व्यंजन

विराम चिह्न की परिभाषा, भेद और नियम

  1. योजक चिह्न
  2. अवतरण चिह्न
  3. अल्प विराम
  4. पूर्ण विराम चिह्न

संज्ञा की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  2. जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  3. व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. प्रश्नवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  5. निश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  2. द्विगु समास की परिभाषा और उदाहरण
  3. कर्मधारय समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  4. बहुव्रीहि समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. द्वन्द्व समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  6. तत्पुरुष समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

वाक्य की परिभाषा, भेद एवं उदहारण

  1. मिश्र वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. संयुक्त वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. साधारण वाक्य की परिभाषा एवं उदहारण

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  2. संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  3. गुणवाचक विशेषण की परिभाषा और उदाहरण
  4. सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  5. विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. प्रविशेषण की परिभाषा एवं उदाहरण

क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. सामान्य क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  2. पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. नामधातु क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  4. संयुक्त क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  6. प्रेरणार्थक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  7. सकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण