सर्वनाम किसे कहते हैं – परिभाषा एवं भेद

सर्वनाम किसे कहते हैं - Sarvanam Kise Kahate Hain

सर्वनाम किसे कहते हैं (Sarvanam Kise Kahate Hain)

संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने वाले शब्दों को सर्वनाम कहते हैं। सर्वनाम शब्द ‘सर्व’ और ‘नाम’ शब्दों से मिलकर बना है, जहाँ ‘सर्व’ शब्द का अर्थ ‘सभी’ या ‘सब’ तथा ‘नाम’ का अर्थ हिंदी व्याकरण में ‘संज्ञा’ से लिया जाता है। अतः हम कह सकते हैं कि- वे सभी शब्द सर्वनाम हैं, जिनका प्रयोग संज्ञा के स्थान पर किया जाता है।

सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • मैं – इसका इस्तेमाल वक्ता स्वयं के लिए करता है।
  • तू – इसका इस्तेमाल वक्ता की बात सुनने वाले के लिए किया जाता है।
  • यह – आस-पास की किसी वस्तु को इंगित करने के लिए इस शब्द का प्रयोग किया जाता है।
  • वह – दूर की किसी वस्तु को इंगित करने के लिए इस शब्द का प्रयोग किया जाता है।

हिंदी में 11 सर्वनाम होते हैं। इन ग्यारह सर्वनामों ( मैं, तू, आप, यह, वह, सो, जो, कोई, कुछ, कौन, क्या ) को मूल सर्वनाम कहते हैं। यही ग्यारह सर्वनाम पुरुष, वचन और कारक के आधार पर अपना रूपांतरण करके अन्य सर्वनाम बनाते हैं, जिन्हें यौगिक सर्वनाम कहते हैं।

सर्वनाम का प्रयोग क्यों किया जाता है? 

सर्वनाम का उपयोग भाषा को सुंदर बनाने के लिए तथा संज्ञा शब्दों की पुनरावृत्ति को कम करने के लिए सर्वनाम शब्दों का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:- 

मोहन एक चालाक आदमी है। मोहन दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं करता है। मोहन की एक बेटी है। मोहन अपनी बेटी से बहुत प्यार करता है।

उपरोक्त उदाहरण में आप देख रहे होंगे कि, मोहन शब्द की पुनरावृत्ति हो रही है। इस तरह एक शब्द कि बार-बार पुनरावृत्ति होने से भाषा की सुंदरता में कमी आती है। सर्वनाम शब्दों का प्रयोग इसी पुनरावृत्ति को ख़त्म करने के लिए किया जाता है। उपरोक्त उदाहरण में यदि हम सर्वनाम शब्दों का प्रयोग करते हैं तो, वाक्य कुछ इस तरह बनेंगे-

मोहन एक चालाक आदमी है। वह दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं करता है। उसकी एक बेटी है। वह अपनी बेटी से बहुत प्यार करता है।

इस तरह आप देख सकते हैं कि मोहन की जगह अलग-अलग सर्वनाम शब्दों का प्रयोग करने से वाक्य किस तरह बदल गए.

हिंदी व्याकरण में सर्वनाम को संज्ञा का ही उपभेद माना जा सकता है क्योंकि जो शब्द हमें संज्ञा का बोध करवाते हैं उन्ही शब्दों के स्थान पर सर्वनाम शब्दों का प्रयोग होता है। अतः सर्वनाम एक प्रकार से “संज्ञा” ही हो सकती है।

लेकिन, संज्ञा और सर्वनाम में एक अंतर होता है। संज्ञा हमें उसी वस्तु का बोध करवाती है जिसका वह नाम (संज्ञा) है, जबकि सर्वनाम से किसी भी वस्तु का बोध हो सकता है। सर्वनाम के इसी गुण की वजह से उसे संज्ञा का एक भेद न मानकर अलग भेद माना जाता है।

सर्वनाम के उदाहरण:- 

‘किताब’ शब्द से हमें यह पता चलता है कि यहाँ ‘किताब’ के बारे में बात हो रही है, न कि मकान या कुर्सी के बारे मेें। यदि हम ‘किताब’ (संज्ञा) के स्थान पर सर्वनाम का प्रयोग करें तो हम किताब को ‘यह’ या ‘वह’ से संबोधित कर सकते हैं। ‘यह’ और ‘वह’ कहने में हमें किताब के अलावा भी किसी वस्तु का बोध हो सकता है क्योंकि ‘यह’ या ‘वह’ किसी भी वस्तु के लिए प्रयुक्त किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:-

सर्वनाम के 6 भेद होते हैं

  • पुरूषवाचक सर्वनाम
  • निश्चयवाचक सर्वनाम
  • अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  • प्रश्नवाचक सर्वनाम
  • संबंधवाचक सर्वनाम
  • निजवाचक सर्वनाम

पुरूषवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग बात कहने वाले के स्थान पर, बात सुनने वाले के स्थान पर तथा जिसके बारे में बात की जा रही है उसके स्थान पर किया जाता है, उन्हें पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं। मैं, तू, आप, यह, वह आदि पुरूषवाचक सर्वनाम हैं। पुरूषवाचक सर्वनाम तीन प्रकार के होते हैं।

  • उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम
  • मध्यम पुरूषवाचक सर्वनाम
  • अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम

उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग वक्ता स्वयं के लिए करता है, उन्हें उत्तम पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं। ‘मैं’ एवं ‘हम‘ उत्तम पुरूषवाचक सर्वनाम है। कारक के आधार पर ‘मैं’ अपना रूप परिवर्तित करके जो अन्य सर्वनाम बनाता है, वे सभी सर्वनाम भी उत्तम पुरूषवाचक सर्वनाम होंगे। जैसे:- मैंने, मुझको, मुझसे, हमको, हमने आदि।

उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • मैं एक धार्मिक व्यक्ति हूँ। इस वाक्य में जो व्यक्ति बात कर रहा है, वह स्वयं के बारे में बता रहा है। अतः इसमें उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम है।
  • मैंने आज नाश्ता नहीं किया है। इस वाक्य में ‘कर्ता’ कारक की वजह से ‘मैं’ का का परिवर्तित रूप ‘मैंने’ बनकर वाक्य में प्रयुक्त हुआ है। इस वाक्य में भी जो व्यक्ति बात कर रहा है, वह स्वयं के बारे में बता रहा है। अतः इसमें भी ‘मैं’ उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम है।

मध्यम पुरूषवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग वक्ता द्वारा बात सुनने वाले के लिए किया जाता है, उन्हें मध्यम पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं। ‘तू’ तथा ‘आप’ मध्यम पुरूषवाचक सर्वनाम होते हैं।

मध्यम पुरूषवाचक सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • तुम बहुत अच्छी हिंदी बोलते हो। 
  • आपके सहयोग के बिना मैं यह सब नहीं कर पाऊंगा।

उपरोक्त दोनों वाक्यों में ‘तुम’ एवं ‘आपके’ मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम शब्द हैं।

अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग वक्ता एवं बात सुनने वाला किसी तीसरे व्यक्ति या वस्तु के लिए करते हैं, उन्हें अन्य पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं। ‘यह’ एवं ‘वह’ अन्य पुरूषवाचक सर्वनाम शब्द हैं।

अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • यह मेरा घर है।
  • वह मेरा घर नहीं है।

यह भी पढ़ें :-

निश्चयवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों से किसी निश्चित व्यक्ति या वस्तु का बोध होता है, उन्हें निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। ‘यह’ एवं ‘वह’ निश्चयवाचक सर्वनाम हैं। निश्चयवाचक सर्वनाम में किसी व्यक्ति या वस्तु की ओर निश्चित इशारा किया जाता है।

निश्चयवाचक सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • यह मेरी पुस्तक है। इस वाक्य में ‘यह’ निश्चयवाचक सर्वनाम शब्द है। ‘यह’ का प्रयोग वक्ता के द्वारा आसपास कि किसी वस्तु या व्यक्ति को संबोधित करने के लिए किया जाता है।
  • वह मेरा सामान नहीं है। इस वाक्य में ‘वह’ निश्चयवाचक सर्वनाम शब्द है। ‘वह’ का प्रयोग वक्ता के द्वारा अपने से दूर किसी वस्तु या व्यक्ति को संबोधित करने के लिए किया जाता है।

अनिश्चयवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों से किसी निश्चित व्यक्ति या वस्तु का बोध नहीं होता है, उन्हें अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। ‘कोई’ एवं ‘कुछ’ अनिश्चयवाचक सर्वनाम हैं। 

अनिश्चयवाचक सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • वहां कोई तो था। इस वाक्य में ‘कोई’ शब्द अनिश्चयवाचक सर्वनाम है। इस वाक्य में स्पष्ट नहीं है कि वहां कौन था। अतः अनिश्चयवाचक सर्वनाम वाले शब्दों में अनिश्चितता बनी रहती है।
  • कुछ गड़बड़ है। इस वाक्य में भी ‘कुछ’ शब्द अनिश्चयवाचक सर्वनाम है। अनिश्चितता की स्थिति यहाँ भी बनी हुई है। 

यह भी पढ़ें :-

प्रश्नवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों से प्रश्न का बोध होता है उन्हें प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते हैं। कौन, क्या, किसकी आदि प्रश्नवाचक सर्वनाम हैं। जिस वाक्य में प्रश्नवाचक सर्वनाम प्रयुक्त होते हैं, वह वाक्य प्रश्न बन जाता है।

प्रश्नवाचक सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • राम के पिता का नाम क्या है?
  • यह पुस्तक किसकी है?
  • भारत का प्रधानमंत्री कौन है?

संबंधवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों से दो अलग-अलग बातों या वाक्यों के बीच संबंध का बोध होता है, उन्हें संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं। ‘जो’ एवं ‘सो’ संबंधवाचक सर्वनाम हैं। 

संबंधवाचक सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • जो मेहनत करेगा सो कामयाब होगा। इस वाक्य में जो-सो दोनों वाक्यों के बीच संबंध बना रहे हैं।

यह भी पढ़ें :-

निजवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग कर्ता स्वयं के लिए करता है, उन्हें निजवाचक सर्वनाम कहते हैं। आप, अपना, स्वयं आदि निजवाचक सर्वनाम है।

निजवाचक सर्वनाम के उदाहरण:- 

  • मैं अपना काम जानता हूँ। इस वाक्य में ‘अपना’ निजवाचक सर्वनाम है।

निजवाचक सर्वनाम और पुरुषवाचक सर्वनाम में अंतर

निजवाचक सर्वनाम का ‘आप‘ एवं पुरूषवाचक सर्वनाम का ‘आप’ अलग-अलग है। पुरूषवाचक का ‘आप’ किसी अन्य व्यक्ति के लिए आदर प्रकट करने के लिए प्रयुक्त किया जाता है, जबकि निजवाचक का ‘आप’ कर्ता स्वयं के लिए करता है। जब हम निजवाचक में ‘आप’ का प्रयोग करते हैं तो उसका अर्थ ‘स्वयं’ या ‘ख़ुद’ होता है। 

अगर आपको किसी वाक्य में निजवाचक सर्वनाम या पुरुषवाचक सर्वनाम पहचानने में परेशानी हो तो, आपको उस वाक्य में ‘आप’ के स्थान पर ‘स्वयं’ या ‘खुद’ शब्द को प्रयोग में करके देखना चाहिए। अगर ऐसा करने से वाक्य के अर्थ में किसी तरह का परिवर्तन नहीं होता है तो, उस वाक्य में ‘आप’ निजवाचक सर्वनाम होगा।

उदाहरण:- 

आप कल वहां चले जाना। इस वाक्य में ‘आप’ का प्रयोग किसी अन्य व्यक्ति को संबोधित करने के लिए किया गया है। अगर हम इस वाक्य का अर्थ निकालें तो हमें समझ में आता है, कि किसी अन्य व्यक्ति को संबोधित करके यह कहा जा रहा है कि, ‘आप कल वहां चले जाना’। अतः इस वाक्य में ‘आप’ पुरुषवाचक सर्वनाम है।

मैंने यह चाय आप बनाई है। इस वाक्य में ‘आप’ का प्रयोग करता किसी अन्य व्यक्ति को आदर देने के लिए या संबोधित करने के लिए नहीं कर रहा है, बल्कि इस वाक्य में ‘आप’ का प्रयोग कर्ता स्वयं के लिए कर रहा है। 

अगर हम इस वाक्य में ‘आप’ की जगह ‘स्वयं’ या ‘खुद’ शब्द को लगा करें तो वाक्य कुछ इस तरह बनेगा- मैंने यह चाय स्वयं बनाई है। आप की जगह स्वयं लगा देने से वाक्य के अर्थ में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है अतः इस वाक्य में ‘आप’ निजवाचक सर्वनाम है।

हम आपके लिए एक सवाल छोड़ रहे हैं। आपको यह बताना है की इस वाक्य में आप पुरुषवाचक सर्वनाम है या निजवाचक सर्वनाम है? सवाल का जवाब आप कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं।

मोहन आप चला जाएगा। 

यह भी पढ़ें :-

Leave a Reply