संघर्षहीन व्यंजन किसे कहते हैं? और संघर्षहीन व्यंजन कितने होते हैं?

संघर्षहीन व्यंजन

संघर्षहीन व्यंजन

जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय प्राणवायु बिना किसी संघर्ष के मुख से बाहर निकल जाती हो उन्हें संघर्ष हीन व्यंजन कहते हैं। संघर्षहीन व्यंजनों की संख्या दो होती है। हिंदी वर्णमाला में य और व को संघर्ष हीन व्यंजन कहते हैं। संघर्ष हीन व्यंजनों का उच्चारण करते समय हमें स्वरों जितना ही प्रयत्न करना पड़ता है, इसलिए इन व्यंजनों को अर्द्धस्वर भी कहते हैं।

दरअसल, हम जानते हैं कि जब किसी वर्ण का उच्चारण करते हैं तो वायु हमारे फेफड़ों से उठकर मुख से बाहर निकलती है, जहाँ उसे मुख के विभिन्न अवयवों के साथ संघर्ष करना पड़ता है, लेकिन कुछ वर्ण ऐसे भी होते हैं जिनका उच्चारण करते समय वायु को किसी भी तरह के संघर्ष का सामना नहीं करना पड़ता।

इन वर्णों को ही संघर्षहीन व्यंजन कहते हैं।

संघर्षहीन व्यंजन
संघर्षहीन व्यंजन

संघर्षहीन व्यंजनों का उच्चारण स्थान

  • य वर्ण का उच्चारण स्थान तालु होता है, इसलिए य वर्ण को तालव्य व्यंजन भी कहते हैं।
  • व वर्ण का उच्चारण स्थान दन्त ओष्ठ होता है, इसलिए व वर्ण को दन्तोष्ठ्य व्यंजन भी कहते हैं।

अर्ध स्वर की संख्या कितनी है?

हिंदी वर्णमाला में य और व को अर्ध स्वर व्यंजन कहते हैं।

संज्ञा की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  2. जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  3. व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. प्रश्नवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  5. निश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  2. द्विगु समास की परिभाषा और उदाहरण
  3. कर्मधारय समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  4. बहुव्रीहि समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. द्वन्द्व समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  6. तत्पुरुष समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

वाक्य की परिभाषा, भेद एवं उदहारण

  1. मिश्र वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. संयुक्त वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. साधारण वाक्य की परिभाषा एवं उदहारण

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  2. संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  3. गुणवाचक विशेषण की परिभाषा और उदाहरण
  4. सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  5. विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. प्रविशेषण की परिभाषा एवं उदाहरण

क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. सामान्य क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  2. पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. नामधातु क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  4. संयुक्त क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  6. प्रेरणार्थक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  7. सकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण