सजातीय क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण

Sajatiya Kriya

Sajatiya Kriya | सजातीय क्रिया

यदि किसी वाक्य में प्रयुक्त कर्म और क्रिया पद एक ही धातु से बने हों तो उसे सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya) कहते हैं। सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya) में प्रयुक्त कर्म को ‘सजातीय कर्म’ तथा प्रयुक्त क्रिया को ‘सजातीय क्रिया’ कहते हैं।

दरअसल, किसी भी वाक्य में कर्ता, कर्म और क्रिया होते हैं, जहाँ कर्ता एवं कर्म संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्द होते हैं और क्रिया किसी भी धातु से बनी होती है।सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya) में वाक्य का कर्म संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्द न होकर किसी धातु से बना होता है। इस क्रिया में वाक्य का कर्म और क्रिया एक ही धातु से बने होते हैं।

Sajatiya Kriya
Sajatiya Kriya

सजातीय क्रिया के उदाहरण

  • मोहन ने पढ़ाई पढ़ी।
  • भारतीय सेना ने लड़ाई लड़ी।
  • सिपाही ने चोर को बड़ी मार मारी।
  • लड़की अच्छी चाल चलती है।
  • बच्चे खेल खेल रहे हैं।
  • वे अनोखी बोली बोलते हैं।
  • भारतीय सेना ने लड़ाई लड़ी।

उपरोक्त वाक्य में वाक्य का कर्म ‘लड़ाई’ है जो कि ‘लड़’ धातु से बना है। इस वाक्य में प्रयुक्त क्रिया ‘लड़ी’ है, जो कि ‘लड़’ धातु से ही बनी है। अतः उपरोक्त वाक्य में प्रयुक्त कर्म और क्रिया एक ही धातु से बने हैं।

सजातीय क्रिया की परिभाषा से हम जानते हैं कि “यदि किसी वाक्य में प्रयुक्त कर्म और क्रिया पद एक ही धातु से बने हों तो उसे सजातीय क्रिया कहते हैं।” अतः उपरोक्त वाक्य सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya) का उदाहरण होगा।

  • रवि ने चाल चली।

उपरोक्त वाक्य में वाक्य का कर्म ‘चाल’ है जो कि ‘चल’ धातु से बना है। इस वाक्य में प्रयुक्त क्रिया ‘चली’ है, जो कि ‘चल’ धातु से ही बनी है। अतः उपरोक्त वाक्य में प्रयुक्त कर्म और क्रिया एक ही धातु से बने हैं।

सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya) की परिभाषा से हम जानते हैं कि “यदि किसी वाक्य में प्रयुक्त कर्म और क्रिया पद एक ही धातु से बने हों तो उसे सजातीय क्रिया कहते हैं।” अतः उपरोक्त वाक्य सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya) का उदाहरण होगा।

  • यात्रियों ने चढ़ाई चढ़ी।

उपरोक्त वाक्य में वाक्य का कर्म ‘चढ़ाई’ है जो कि ‘चढ़’ धातु से बना है। इस वाक्य में प्रयुक्त क्रिया ‘चढ़ी’ है, जो कि ‘चढ़’ धातु से ही बनी है। अतः उपरोक्त वाक्य में प्रयुक्त कर्म और क्रिया एक ही धातु से बने हैं।

सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya) की परिभाषा से हम जानते हैं कि “यदि किसी वाक्य में प्रयुक्त कर्म और क्रिया पद एक ही धातु से बने हों तो उसे सजातीय क्रिया कहते हैं।” अतः उपरोक्त वाक्य सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya) का उदाहरण होगा।

संज्ञा की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  2. जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण
  3. व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. निजवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. प्रश्नवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  5. निश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  2. द्विगु समास की परिभाषा और उदाहरण
  3. कर्मधारय समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  4. बहुव्रीहि समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. द्वन्द्व समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  6. तत्पुरुष समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण

वाक्य की परिभाषा, भेद एवं उदहारण

  1. मिश्र वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  2. संयुक्त वाक्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. साधारण वाक्य की परिभाषा एवं उदहारण

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  2. संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  3. गुणवाचक विशेषण की परिभाषा और उदाहरण
  4. सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  5. विशेष्य की परिभाषा एवं उदाहरण
  6. प्रविशेषण की परिभाषा एवं उदाहरण

क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण

  1. सामान्य क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  2. पूर्वकालिक क्रिया की परिभाषा एवं उदाहरण
  3. नामधातु क्रिया की परिभाषा और उदाहरण
  4. संयुक्त क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  5. अकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण
  6. प्रेरणार्थक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण
  7. सकर्मक क्रिया की परिभाषा, भेद और उदाहरण

सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण

  1. प्रत्यय
  2. उपसर्ग
  3. शब्द-विचार
  4. कारक
  5. विलोम शब्द
  6. पर्यायवाची शब्द
  7. तत्सम और तद्भव शब्द
  8. संधि और संधि-विच्छेद
  9. सम्बन्धबोधक अव्यय
  10. अयोगवाह
  11. हिंदी वर्णमाला
  12. वाक्यांश के लिए एक शब्द
  13. समुच्चयबोधक अव्यय
  14. विस्मयादिबोधक अव्यय
  15. हिंदी लोकोक्तियाँ
  16. हिंदी स्वर
  17. संज्ञा उपवाक्य
  18. भाव वाच्य
  19. कर्तृ वाच्य
  20. कर्म वाच्य
  21. क,ख,ग,घ in english